BYD Electric SUV

प्रदूषण की चिंता, ऊर्जा सुरक्षा और विकास के चरम पर पहुँचते हुए, वाहन उद्योग ने इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति रुझान दिखाया है। इन मुद्दों को मध्यम में लाते हुए, बीवाईडी (BYD) ने एक उत्कृष्ट विकल्प प्रस्तुत किया है – “BYD Electric SUV”। यह एक सुरक्षित, प्रदूषणमुक्त और भविष्य के दिशा-निर्देशक प्रोडक्ट है जिसने उद्यमी और जागरूक ग्राहकों की नजरों में अपनी जगह बना ली है।

BYD Electric SUV: Tesla के पहले चीनी कंपनी BYD की बड़ी तैयारी 

हाल ही में, एक BYD सी लायन को परीक्षण के दौरान देखा गया था। कथित तौर पर इसका निर्माण BYD के ई-प्लेटफॉर्म 3.0 पर किया जाएगा। दूसरी ओर, टेस्ला ने पुणे में 5,850 वर्ग फुट जमीन पट्टे पर लेकर भारत में अपनी प्रवेश रणनीति को तेज कर दिया है।

विदेशी व्यवसाय भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों की आवश्यकता को देखते हुए उद्योग में उपस्थिति हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं। टेस्ला के सीईओ एलोन मस्क ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान घोषणा की थी कि वह जल्द ही भारत में अपनी खुद की उत्पादन सुविधा स्थापित करेंगे, जहां टेस्ला की सबसे कम कीमत वाली 20 लाख रुपये की कीमत वाली गाड़ी बनाई जाएगी। हालाँकि, चीन में शीर्ष इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता बिल्ड योर ड्रीम (बीवाईडी) ने पहले ही भारत में अपने वाहनों की संख्या बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास किए हैं।

मीडिया सूत्रों का कहना है कि BYD ने “सी लायन” नेमप्लेट को भारतीय बाजार के लिए ट्रेडमार्क के रूप में पंजीकृत किया है। इसके बाद इस बात की चर्चा तेज हो गई हैं कि कंपनी जल्द ही भारतीय बाजार में इसी नाम से एक नई इलेक्ट्रिक कार पेश करेगी। हालाँकि, निगम ने अभी तक इस संबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है। संक्षेप में, BYD Electric SUV वर्तमान में भारत में बिक्री के लिए ओटो 3 जैसी 5-सीटर इलेक्ट्रिक एसयूवी पेश करता है।

वैश्विक मंच पर वाहन बिक्री के मामले में BYD Electric SUV का सीधा मुकाबला टेस्ला से है। पिछले साल इलेक्ट्रिक ऑटोमोबाइल की बिक्री में इस चीनी बिजनेस ने टेस्ला को भी पछाड़ दिया था। ये दोनों बिजनेस अब भारतीय बाजार पर फोकस कर रहे हैं। टेस्ला ने शुरुआत में भारत सरकार से आयात शुल्क कम करने के लिए कहा था, लेकिन अधिकारियों ने उसे दो टूक कह दिया कि अगर वे यहां कारें बनाएंगे, तो उन्हें अन्य इलेक्ट्रिक वाहन निर्माताओं को दिए जाने वाले सभी लाभ भी मिलेंगे।

Read also: The 10 Cars That Will Change the World

सरकार ने ठुकराया प्रस्ताव और जांच में फंसी BYD

रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में इलेक्ट्रिक फोर-व्हीलर मैन्युफैक्चरिंग यूनिट के लिए BYD के 1 बिलियन डॉलर के निवेश के अनुरोध को पिछले महीने राष्ट्रीय सरकार ने खारिज कर दिया था। हैदराबाद स्थित कंपनी मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के सहयोग से चीनी कंपनी का इरादा इस रकम को भारत में निवेश करने का था। इसके अलावा, BYD पहले ही एक जांच में शामिल हो चुका है।

भारत में बेचे जाने वाले असेंबल ऑटो में इस्तेमाल होने वाले आयातित पार्ट्स पर निगम पर कम टैक्स देने का आरोप लगाया गया था। कम कर भुगतान का दावा राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) की जांच का विषय था। DRI ने दावा किया कि BYD ने टैक्स के रूप में 9 मिलियन डॉलर (करीब 74 करोड़ रुपये) कम चुकाया है, जितना उसे देना चाहिए था। फिर भी, प्रारंभिक जांच के बाद BYD ने यह राशि जमा कर दी है।

कैसी होगी Sea Lion

BYD कथित तौर पर विदेशों में एक नए मॉडल Sea Lion SUV का परीक्षण कर रहा है। आपको बता दें कि यह एक मध्यम आकार की एसयूवी होगी जिसकी अधिकतम लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई क्रमशः 4,770 मिमी, 1,910 मिमी और 1,620 मिमी होगी। साथ ही इस एसयूवी में 2,900 मिमी का व्हीलबेस होगा।

यह देखते हुए कि यह कंपनी की मौजूदा एट्टो 3 इलेक्ट्रिक एसयूवी से 315 मिमी लंबी, 35 मिमी चौड़ी और 5 मिमी ऊंची है, BYD Sea Lion को इसके ऊपर स्थित किया जाएगा। इसके अलावा, इस एसयूवी का व्हीलबेस Atto 3 की तुलना में 180 मिमी लंबा होगा। इसे संभवतः BYD के ई-प्लेटफॉर्म 3.0 का उपयोग करके बनाया जाएगा। जिस एसयूवी को परीक्षण के दौर से गुजरते हुए देखा गया है, उसमें एक ट्रेपोजॉइडल ग्रिल टुकड़ा, एक मजबूत बम्पर और शीर्ष पर लगे हेडलैंप हैं। एसयूवी में एक ढलान वाली छत है जो कूपे जैसी दिखती है, और एलईडी डीआरएल हेडलैम्प के नीचे स्थित लगते हैं।

Read also: How to get cheap car insurance?

पावर, परफॉर्मेंस और रेंज

मीडिया सूत्रों के मुताबिक, BYD की एक इलेक्ट्रिक एसयूवी में 82.5kWh बैटरी पैक हो सकता है, जो इसे लगभग 700 किलोमीटर की ड्राइविंग रेंज देगा। इस एसयूवी के रियर-व्हील ड्राइव और ऑल-व्हील ड्राइव दोनों संस्करण पेश किए जाएंगे। रियर-व्हील ड्राइव संस्करण में एक एकल मोटर का उपयोग किया जाएगा, जो 204 हॉर्सपावर और 310 एनएम का पीक टॉर्क पैदा करेगा। ऑल-व्हील ड्राइव संस्करण भी दोहरी मोटर व्यवस्था के साथ आएगा, जिसमें फ्रंट और रियर मोटर क्रमशः 217 एचपी और 313 एचपी का उत्पादन करेंगे। दूसरे शब्दों में कहें तो यह इलेक्ट्रिक मोटर एक साथ इस्तेमाल करने पर 530 एचपी की बिजली पैदा कर सकती है।

BYD और Tesla की जंग

टेस्ला और BYD के बीच प्रतिद्वंद्विता देखना दिलचस्प होगा। एक ओर, BYD वर्तमान में एक नया मॉडल विकसित कर रहा है, साथ ही भारतीय बाजार में तीन इलेक्ट्रिक कारें भी बेच रहा है। दूसरी ओर, टेस्ला ने पुणे में अपने कार्यालय के लिए 5,850 वर्ग फुट भूमि पट्टे पर लेकर भारत में अपनी प्रवेश रणनीति को तेज कर दिया है। इसके अलावा, व्यवसाय ने भारतीय मूल के वैभव तनेजा को अपने नए मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) के रूप में सेवा देने के लिए चुना है।

Read more

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here