दक्षिणपंथी यामिना (यूनाइटेड राइट) दल के राजनेता नफ्ताली बेनेट ने इजरायल के नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। इसी के साथ पूर्व प्रधानमंत्री और विश्व भर में एक मजबूत नेता की छवि रखने वाले बेंजामिन नेतन्याहू के 12 साल से चलते आ रहे शासन-काल का अंत हो गया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की एक रिपोर्ट के मुताबिक नई गठबंधन सरकार, जिसका नेतृत्व बेनेट और येश अतीद (फ्यूचर) पार्टी के नेता लैपिड द्वारा की जा रही है। इस गठबंधन को संसद (केसेट) द्वारा विश्वास मत में विजयी घोषित किया गया था। इससे पहले इजराइल की संसद में हुए विश्वास मत में 120 सदस्य वाले सदन के 60 सांसदों ने नई सरकार के पक्ष में मतदान किया जबकि 59 ने इसके विरुद्ध में मतदान किया।

संसद सत्र के एक टीवी सर्वे में नवनिर्वाचित प्रधानमन्त्री बेनेट और लैपिड को संसद में गठबंधन सीटों पर नई सीटों पर विजयी होते हुए दिखाया गया जबकि इजरायल में सबसे लंबे समय तक काम करने वाले पीएम बेंजामिन नेतन्याहू विपक्ष की पिछली सीटों पर चले गए। नई सरकार के तहत 27 नए मंत्रियों को भी पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। बेनेट और लैपिड दो-दो साल के अंतराल पर प्रधानमंत्री बनेंगे। वर्तमान में बेनेट पहले प्रधानमंत्री बने हैं और इसी गणना के आधार पर 2023 में लैपिड प्रधानमंत्री बनेंगे। फ़िलहाल लैपिड इजरायल के उप-प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री के तौर पर नियुक्त हुए हैं।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक एवं फॉलो करें तथा विस्तार से न्यूज़ पढने के लिए हिंदीरिपब्लिक.कॉम विजिट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here