देश में कोरोना वायरस के प्रतिदिन आने वाले नए संक्रमण के मामलों में लगातार तेजी से कमी दर्ज की जा रही है। बिहार में भी हर दिन कोरोना के नए मामलों में तेजी से गिरावट देखी जा रही है। आपको बता दें कि अगर बिहार में हो रहे चरणबद्ध अनलॉक के तहत 6 जुलाई के बाद परिस्थितियां अगर ऐसे ही सामान्य बनी रहीं तो प्रदेश में स्कूल-कॉलेज एवं अन्य शिक्षण संस्थान भी खोले जाएंगे। बिहार राज्य के शिक्षा मंत्री (Education Minister) विजय कुमार चौधरी ने भी सूचना दी है कि यदि वर्तमान की तरह राज्य की स्थिति में सुधार होता रहा तो सुरक्षा के मानकों (Safety Standards) को ध्यान में रखकर सख्त निर्देशों के साथ जुलाई माह में सरकारी और निजी स्कूल-कॉलेज खोले जा सकेंगे।

बच्चों के हित में लिया गया है चरणबद्ध तरीके से शिक्षण संस्थानों को खोलने का फैसला

राज्य के शिक्षामंत्री ने आगे कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा चरणबद्ध तरीके से शिक्षण संस्थानों को खोलने की तैयारी चल रही है। 6 जुलाई के बाद पहले चरण में University और College खोले जाएंगे। दूसरे चरण में माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालय (कक्षा 9वीं से 12वीं तक) खोले जाएंगे। वहीं, तीसरे चरण में प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों (Primary and Middle Schools) के बच्चों के लिए कक्षाएं शुरू की जाएंगी। इस तरह से तीन चरणों में शिक्षा विभाग, शिक्षण संस्थानों को खोलने की तैयारी कर रहा है।

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा, हम शिक्षण संस्थानों को इसलिए खोलना चाह रहे हैं क्योंकि कोरोना महामारी के संक्रमण के चलते काफी समय से स्कूल-कॉलेज समेत अन्य शिक्षण संस्थान लगातार बंद हैं, इससे बच्चों की पढ़ाई विशेष रूप से बाधित है। शिक्षा मंत्री ने ये भी कहा है कि सख्त निर्देशों के साथ जुलाई माह में सरकारी और निजी स्कूल-कॉलेज 50 फीसदी क्षमता के साथ ऑन-कैंपस कक्षाएं (On-Campus Classes) संचालित किए जा सकेंगे। साथ ही निजी और सरकारी दोनों शैक्षणिक संस्थानों को छात्रों और कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए विभाग की ओर से जारी मानक संचालन प्रक्रियाओं (Standard Operating Procedures) का पालन करना होगा।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक एवं फॉलो करें तथा विस्तार से न्यूज़ पढने के लिए हिंदीरिपब्लिक.कॉम विजिट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here