फ्लाइंग सिख के नाम से प्रसिद्ध भारत के सर्वकालिक महान धावक मिल्खा सिंह (Milkha Singh) का शुक्रवार की रात 11.30 बजे देहांत हो गया। 91 वर्ष की उम्र में इस महान धावक ने अंतिम सांस ली। आपको बता दें कि वह कुछ दिनों से कोरोनावायरस से संक्रमित हुए थे और चंडीगढ़ के PGI अस्पताल में उनका उपचार विशेष चिकित्सकों की निगरानी में चल रहा था। गत माह 19 मई को उनकी कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद वह चंडीगढ़ स्थित अपने आवास पर ही उपचार करवा रहे थे लेकिन तबियत ज्यादा बिगड़ने के बाद 24 मई को उन्हें मोहाली के एक अस्पताल के ICU वार्ड में एडमिट कराया गया था।

ज्ञात है कि इसी महीने13 जून को उनकी पत्नी और इंडियन महिला वॉलीबॉल टीम की पूर्व कैप्टन निर्मल मिल्खा सिंह (Nirmal Milkha Singh) का भी मोहाली स्थित एक अस्पताल में COVID-19 संक्रमण  के कारण निधन हो गया था। मिल्खा सिंह को 3 जून को चंडीगढ़ स्थित PGIMER में दाखिल कराया गया। 13 जून को बेहतर इलाज के कारण उन्होंने कोरोना वायरस को मात दी, हलांकि इस दौरान उनकी जांच रिपोर्ट भी नेगेटिव आई थी लेकिन उनकी हालत स्थिर बनी हुई थी। 18 जून रात 11:30 बजे इस महान धावक ने अस्पताल में अंतिम सांस ली।

प्रधानमन्त्री मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने मिल्खा सिंह के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। श्री मिल्खा सिंह के देहांत के कुछ ही देर बाद उन्होंने ट्वीट किया, ‘श्री मिल्खा सिंह जी के निधन से हमने एक सर्वकालिक महान खिलाड़ी को खो दिया है, जिसने देश की कल्पना एवं संस्कृति पर अपनी एक गहरी छाप छोड़ी थी और अनगिनत भारतीयों के दिलों में अपना एक विशेष स्थान बना लिया था। अपने प्रेरक व्यक्तित्व की वजह से वह लाखों लोगों के चहेते थे। मैं उनके देहांत से काफी से आहत हूं। प्राइम मिनिस्टर मोदी ने आगे लिखा, ‘मैंने कुछ दिनों पहले ही महान धावक श्री मिल्खा सिंह जी से बातचीत की थी। मुझे नहीं पता था कि यह हमारी आखिरी बातचीत होगी। कई नए खिलाड़ी उनकी जीवन यात्रा से प्रेरणा लेंगे। उनके परिवार वालों और दुनियाभर में उनके प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक एवं फॉलो करें तथा विस्तार से न्यूज़ पढने के लिए हिंदीरिपब्लिक.कॉम विजिट करें। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here