प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को चक्रवात ‘‘यास’’ से ओडिशा और पश्चिम बंगाल के प्रभावित इलाकों हवाई सर्वेक्षण किया और दोनों राज्यों में इससे हुए जान-माल के नुकसान की आंकलन के बाद तत्काल 1000 करोड़ रुपये की वित्तीय राहत पैकेज की घोषणा की। साथ ही उन्होंने इस चक्रवात के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 2-2 लाख रुपये और घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये के आर्थिक मुआवजे की घोषणा की। PMO से जारी एक बयान में कहा गया, प्रधानमंत्री मोदी ने तत्काल राहत के लिए 1000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता की घोषणा की। ओडिशा को तत्काल 500 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी दिए। शेष 500 करोड़ रुपये की घोषणा पश्चिम बंगाल और झारखंड के लिए की गई है, जिसे नुकसान के आंकलन के आधार पर जारी किया जाएगा। प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी बयान में कहा गया कि केंद्र सरकार एक अंतर-मंत्रालय दल का गठन करेगा, जो प्रभावित राज्यों के नुकसान का आकलन करेगा तथा अपनी जांच रिपोर्ट केंद्र सरकार को सौंपेगा। इसके आधार पर आगे की वित्तीय मदद दी जाएगी। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने भरोसा दिया कि इस कठिन समय में केंद्र सरकार ओडिशा, पश्चिम बंगाल और झारखंड के लोगों के साथ खड़ी है। साथ ही प्रभावित इलाकों में संसाधनों के पुन: बहाल करने और अन्य कार्यों में हरसंभव मदद पंहुचाने की घोषणा की है।

ADVERTISEMENT

कार्यालय से जारी बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने इस चक्रवात के कारण अपनों को गंवाने व इससे प्रभावित होने वालों के प्रति गहरी संवेदना जताई और जान गंवाने वालों के परिजनों के लिए लिए दो-दो लाख रुपये तथा घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये का आर्थिक मुआवजा दिए जाने की घोषणा की। प्रधानमंत्री ने आपदा जैसी विषम परिस्थितियों के लिए वैज्ञानिक प्रबंधन को मजबूत एवं कुशल बनाने पर जोर दिया और राहत व बचाव के कोशिशों में बेहतर सामंजस्य के लिए लोगों के बीच विश्वास पैदा करने के महत्व पर बल दिया। प्रधानमंत्री ने इस चक्रवात से कम से कम जान और नुकसान के लिए ओडिशा सरकार के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि वित्त-आयोग भी आपदा की गंभीरता को कम करने के लिए 30,000 करोड़ रुपये तक के कोष के संभावनाओं पर कार्य कर रहा है।

चक्रवात यास से जुड़ी घटनाओं में अब तक चार लोगों की मौत हुई है जबकि इसके कारण ओडिशा, पश्चिम बंगाल और झारखंड में लगभग 21 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। चक्रवात के कारण पश्चिम बंगाल में एक व्यक्ति की मौत हो गयी और ओडिशा में तीन लोगों की मौत हो गयी है। पश्चिम बंगाल सरकार ने दावा किया है कि इस प्राकृतिक आपदा के कारण राज्य में कम से कम एक करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं। चक्रवाती तूफ़ान ‘ताउते’ के बाद एक सप्ताह के भीतर देश के तटीय इलाकों से टकराने वाला ‘यास’ दूसरा चक्रवाती तूफान है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here