देश में कोरोना वायरस के तीसरी लहर (Third Wave) की आशंकाओं के बीच एक बेहद चौंका देने वाली खबर मिली है। कोरोना वायरस के सबसे खतरनाक और अत्यधिक संक्रामक माने जा रहे प्रकार डेल्टा प्लस (Delta Plus) का राजस्थान में पहला मामला बीकानेर जिले में मिला है। एक चिकित्सा अधिकारी ने इसकी पुष्टि की। हालांकि, जिस महिला के सैंपल में वायरस का यह वैरिएंट मिला है, वह संक्रमण मुक्त हो चुकी है। कोरोना वायरस संक्रमित महिला के नमूने को जिनोम सिक्वेन्सिंग (Genome Sequencing) के लिये पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (National Institute of Virology) के लैब  में 30 मई को भेजा गया था, जिसकी रिपोर्ट शुक्रवार को मिली है।

बीकानेर क्षेत्र के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (Chief Medical and Health Officer) डॉ. ओ पी चाहर ने बताया कि महिला के सैंपल की जांच में वायरस का डेल्टा प्लस स्वरुप मिला है। स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि महिला कोरोना संक्रमण से हाल ही में स्वस्थ हुई है। उन्होंने बताया कि राज्य में डेल्टा प्लस स्वरुप से संक्रमण का यह पहला केस है। डॉ. चाहर ने बताया कि महिला में कोरोना संक्रमण के एक भी लक्षण नही थे। महिला हाल ही में संक्रमण से पूरी तरह उबरी है तथा उसे कोवैक्सिन (Covaxin) की दोनों खुराक लग चुकी है।

उल्लेखनीय है कि राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में दुनिया के कई देशों और भारत के कई राज्यों में कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट से संक्रमण के मामले सामने आने पर गहरी चिंता व्यक्त की गई थी। बैठक में बताया गया कि विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना का यह नया वैरिएंट बेहद घातक और बहुत तेजी से संक्रमण फैलाने वाला है। ऐसे में किसी भी तरह की लापरवाही बड़ी पुनः हमारे लिए गम्भीर चुनौती पैदा कर सकती है।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक एवं फॉलो करें तथा विस्तार से न्यूज़ पढने के लिए हिंदीरिपब्लिक.कॉम विजिट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here