विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा एक प्रेस रिपोर्ट में ये जानकारी सामने आई है कि पुणे के एक स्टार्ट-अप कम्पनी ने 3-D प्रिंटिंग और दवाओं के मिश्रण से एक ऐसा मास्क तैयार किया है जो अपने संपर्क में आने वाले वायरस को जड़ से खत्म कर देता है। पुणे की थिंक्र टेक्नॉलोजी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा डेवलप इन मास्कों पर वायरस रोधी एजेंट का लेप होता है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने बताया कि टेस्टिंग करके यह साबित किया गया कि मास्क में लगा लेप SARS-Cov-2 को निष्क्रिय कर देता है। विभाग के अनुसार इस लेप में उपयोग की गयी सामग्री सोडियम ओलेफिन सल्फोनेट आधारित मिश्रण है, यह एक प्रकार का डिटर्जेंट एजेंट है। विभाग ने बताया कि जब वायरस इस लेप के संपर्क में आता है तो उसकी बाहरी झिल्ली खत्म हो जाती है।

ADVERTISEMENT

लेप की सामग्री सामान्य तापमान पर स्थिर होती है और उसका सौंदर्य प्रसाधनों में बड़े स्तर पर इस्तेमाल किया जाता है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (DST) ने कहा कि कोविड-19 (COVID-19) के खिलाफ मुकाबले के तहत यह वायरस रोधी मास्क की पहल प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड द्वारा वाणिज्यीकरण के लिए चुनी गयी शुरुआती परियोजनाओं में एक है। यह बोर्ड विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत एक सांविधिक निकाय है। थिंक्र टेक्नॉलोजी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक निदेशक शीतल कुमार ने कहा, हमने महसूस किया कि मास्क संक्रमण रोकने में सार्वभौमिक रूप से एक बड़ा हथियार बन जाएगा। लेकिन उस समय उपलब्ध संसाधन और आम लोगों की पहुंच में आने वाले ज्यादातर मास्क घर में बने थे और अपेक्षाकृत निम्न स्तर के थे। उन्होंने कहा, ऐसे में उच्च गुणवत्ता की मास्क बनाने की जरूरत ने हमें परियोजना को शुरू  करने के लिए प्रेरित किया। यह संक्रमण को फैलने से रोकने की सबसे बेहतर पहल थी।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक एवं फॉलो करें तथा विस्तार से न्यूज़ पढने के लिए हिंदीरिपब्लिक.कॉम विजिट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here