बंगाल की खाड़ी पर बना सघन दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान ‘यास’ (Yaas) में बदल गया है और इसके अत्यंत खतरनाक चक्रवाती तूफान में बदलने के बाद 26 मई को ओडिशा-पश्चिम बंगाल एवं बांग्लादेश के तटों से गुजरने का अनुमान है। भारतीय मौसम विभाग द्वारा ये जानकारी दी गयी है वरिष्ठ वैज्ञानिकों द्वारा राज्य सरकार को किसी भी विषम परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा गया है तथा समूचे राज्य में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है। नाविक, मछुआरों एवं कार्गो जहाज के समुद्र में जाने पर रोक लगा दी गयी है। मौसम विज्ञान केंद्र के उप-निदेशक ने बताया कि ‘यास’ के 26 मई की दोपहर को पारादीप और सागर द्वीपों के बीच से होते हुए ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों से गुजरने की उम्मीद है। यह एक बहुत ही भीषण चक्रवाती तूफान होगा जिसमें 155-165 किलोमीटर प्रतिघंटे या उस से भी अधिक रफ़्तार से हवाएं चलेंगी।

सरकार ने बचाव दलों को तैनात किया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश सरकार संवेदनशील एवं हाई रिस्क इलाकों से लोगों को निकालने की योजना बना रही है। मौसम विभाग के हवाले से जानकारी मिली है कि पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, दक्षिण तथा उत्तर 24 परगना, हावड़ा तथा हुगली में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। यहां कुछेक स्थानों पर 25 मई से भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। वहीँ मौसम विभाग का अनुमान है कि ओडिशा में बालासोर तथा भद्रक जिलों में चक्रवात का बहुत अधिक असर हो सकता है। राज्य सरकार द्वारा नागरिकों को सचेत एवं सतर्क रहने की सलाह दी गयी है।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक एवं फॉलो करें तथा विस्तार से न्यूज़ पढने के लिए हिंदीरिपब्लिक.कॉम विजिट करें। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here